latest-newsचित्तौड़गढ़राजस्थान

सांवरिया सेठ मंदिर में 12 करोड़ से अधिक का चढ़ावा: जानें इस खजाने का उपयोग कैसे होता है

सांवरिया सेठ मंदिर में 12 करोड़ से अधिक का चढ़ावा: जानें इस खजाने का उपयोग कैसे होता है

मनीषा शर्मा । राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में स्थित प्रसिद्ध सांवरिया सेठ मंदिर में इस बार दो दिनों में 12 करोड़ से अधिक का चढ़ावा प्राप्त हुआ है। हर अमावस्या से पहले मंदिर का भंडार खोला जाता है और इस बार सोमवार को भंडार कक्ष में चढ़ावे की गिनती का आंकड़ा 4 करोड़ 35 लाख रुपए तक पहुंच गया। दो दिनों की गिनती में कुल राशि 12 करोड़ 5 लाख 81 हजार रुपए हो गई है। इस मंदिर की मान्यता न केवल राजस्थान बल्कि देश और विदेशों में भी है, जिससे यहां गुप्त दान भी अधिक संख्या में किया जाता है।

मंदिर में हर महीने अमावस से पहले की चौदस को भंडार खोला जाता है, जिसमें मंदिर समिति और स्टाफ के सदस्य मिलकर पूरे महीने भर श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ाई गई नगदी और आभूषण की गिनती करते हैं। इस बार की गिनती रविवार को शुरू हुई और सोमवार तक 4 करोड़ 35 लाख 40 हजार रुपए की राशि प्राप्त हुई। मंदिर समिति के अनुसार, गिनती का कार्य अगले चरणों में भी जारी रहेगा।

सांवरिया सेठ के भक्त दिल खोलकर चढ़ावा देते हैं, जिसमें कई गुप्त दान भी शामिल होते हैं। इस विशाल खजाने का उपयोग मंदिर के मेंटेनेंस और प्रशासनिक खर्चों के साथ श्रद्धालुओं की सुविधाओं पर किया जाता है। इसके अलावा, चढ़ावा राशि का एक हिस्सा आसपास के 16 गांव के विकास कार्यों पर भी खर्च किया जाता है।

मंदिर मंडल अध्यक्ष भैरूलाल गुर्जर, सदस्य संजय कुमार मंडोवरा, भेरूलाल सोनी, अशोक शर्मा, ममतेश शर्मा, शम्भू सुथार, नायब तहसीलदार घनश्याम जरवाल, सुरक्षा प्रभारी गुलाब सिंह राजपूत, हरलाल गुर्जर और बैंक कर्मचारी इस गिनती में शामिल थे। मंदिर समिति ने बताया कि गिनती प्रक्रिया पूरी पारदर्शिता के साथ की जाती है ताकि चढ़ावे की राशि का सही उपयोग सुनिश्चित किया जा सके।

इस तरह , सांवरिया सेठ मंदिर का यह खजाना न केवल धार्मिक महत्व रखता है बल्कि सामाजिक और आर्थिक विकास में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है। भक्तों की अटूट श्रद्धा और उदारता के कारण यह मंदिर हर वर्ष नई ऊँचाइयों को छू रहा है।

post bottom ad