राजस्थान में धर्मांतरण को रोकने के लिए सख्त कानून की मांग: देवनानी

मुख्य बातें:

  • देवनानी ने धर्मांतरण को राष्ट्रहित के लिए खतरा बताया।
  • उन्होंने गहलोत सरकार पर धर्मांतरण को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया।
  • उन्होंने राजस्थान सरकार से धर्मांतरण पर सख्त कानून बनाने की मांग की।
  • उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और डबल इंजन वाली सरकारों ने धर्मांतरण के मामलों में कमी लाई है।
  • उन्होंने स्वयंसेवी संस्थाओं से भी धर्मांतरण को रोकने में सहयोग करने की अपील की।


बाड़मेर, 26 फरवरी 2024:
राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी ( Vasudev Devnani ) ने रविवार को बाड़मेर दौरे के दौरान धर्मांतरण को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्र विरोधी ताकतें भारत को कमजोर करने के लिए धर्मांतरण का इस्तेमाल कर रही हैं। उन्होंने राजस्थान सरकार से इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए सख्त कानून बनाने की मांग की।

देवनानी ने कहा कि 2018 में वसुंधरा राजे सरकार ने धर्मांतरण पर कानून बनाया था, लेकिन आचार संहिता लगने के कारण यह लागू नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि पिछली गहलोत सरकार ने इस कानून को अनदेखा किया और इस पर कोई कदम नहीं उठाया गया। विधानसभा में भी धर्मांतरण का मुद्दा कई बार उठा, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि राष्ट्र विरोधी ताकतें धर्मांतरण के लिए लोगों को प्रलोभन, लालच और दबाव डालती हैं। देवनानी ने कहा कि केंद्र में मोदी सरकार के नेतृत्व में मजबूत सरकार है और देश के अलग-अलग हिस्सों में जहां डबल इंजन की सरकारें हैं, वहां धर्मांतरण के मामलों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में भी अब डबल इंजन की सरकार है और राज्य सरकार को सख्त कानून लेकर आना चाहिए।

देवनानी ने कहा कि सरकार के साथ ही स्वयंसेवी संस्थाएं भी आगे आएं और ऐसा वातावरण बनाएं, जिससे धर्मांतरण के मामलों में कमी आए। उन्होंने कहा कि कई स्कूलों में भी इस तरह के मामले सामने आए हैं, जिसके बाद शिक्षा मंत्री इस मामले को लेकर जागरुक हैं और कई जगह कार्रवाई भी की गई है।

इस दौरान देवनानी ने बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस मौके पर भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष स्वरूप सिंह खारा, दीपक कड़वासरा, रमेशसिंह इंदा, एडवोकेट सुरेश मोदी, नगर परिषद के नेता प्रतिपक्ष पृथ्वी चांडक और निर्दलीय विधायक डॉ. प्रियंका चौधरी मौजूद रहे।

Spread the love