latest-newsअजमेरक्राइमराजस्थान

क्रिश्चयनगंज पुलिस ने 28 लाख की संदिग्ध नकदी के साथ 7 व्यक्तियों को पकड़ा

क्रिश्चयनगंज पुलिस ने 28 लाख की संदिग्ध नकदी के साथ 7 व्यक्तियों को पकड़ा

शोभना शर्मा, अजमेर।   क्रिश्चयनगंज थाना पुलिस ने पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर चलाए जा रहे अभियान के तहत सात व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। इन लोगों के पास से 28 लाख 54 हजार 70 रुपए की संदिग्ध नकदी बरामद की गई है। पुलिस ने इन व्यक्तियों से पूछताछ की, लेकिन वे संतोषजनक उत्तर नहीं दे सके, जिसके चलते नकदी जब्त कर ली गई और मामले की सूचना इनकम टैक्स विभाग, अजमेर को दे दी गई है।

एसपी देवेंद्र कुमार विश्नोई ने बताया कि अवैध मादक पदार्थ, अवैध शराब, अवैध हथियार, जुआ-सट्टा, और संपत्ति संबंधी अपराधों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही करने के लिए पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर यह अभियान चलाया गया। एएसपी दुर्ग सिंह राजपुरोहित, सीओ नॉर्थ रूद्र प्रकाश शर्मा के सुपरविजन और थाना प्रभारी अरविन्द सिंह चारण के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। इस टीम ने विभिन्न स्थानों से सात संदिग्ध व्यक्तियों को पकड़ा और उनके कब्जे से कुल 28 लाख 54 हजार 70 रुपए की राशि बरामद की।

गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की पहचान इस प्रकार है:

  1. अजीत सिंह पुत्र मंगल सिंह, उम्र 27 वर्ष, निवासी रतकुड़िया, पुलिस थाना पीपाड़ सिटी, जिला जोधपुर
  2. रविन्द्र सिंह पुत्र नारायण सिंह, उम्र 28 वर्ष, निवासी धधवाड़ा, पुलिस थाना गोटन, जिला नागौर
  3. हरेन्द्र मुवाल पुत्र दयाल राम, उम्र 27 वर्ष, निवासी सातलावास, पुलिस थाना मेड़ता सिटी, जिला नागौर
  4. प्रेमराज पुत्र रामप्रकाश, उम्र 20 वर्ष, निवासी ग्राम लाई, पुलिस थाना मेड़ता रोड, जिला नागौर
  5. नरपत कुमार पुत्र राम कुमार, उम्र 40 वर्ष, निवासी खाती कॉलोनी बड़ी खाटू, पुलिस थाना बड़ी खाटू, जिला नागौर, हाल किरायेदार किशोर कुमार सैन का मकान, घूघरा घाटी, अजमेर
  6. धवल कुमार पटेल पुत्र भरत भाई, उम्र 34 वर्ष, निवासी कांजीदास का माढ कोलवडा, पुलिस थाना वीजापुर, जिला मेहसाना, गुजरात, हाल किरायेदार राकेश का मकान, राम गली, हाथीभाटा, अजमेर
  7. रमेश लखवानी पुत्र होतचन्द लखवानी, उम्र 44 वर्ष, निवासी अजयनगर, अजमेर, पुलिस थाना रामगंज, जिला अजमेर

पुलिस इन आरोपियों से पूछताछ कर रही है और मामले की गहन जांच जारी है। इनकम टैक्स विभाग को भी इस मामले की जानकारी दे दी गई है ताकि संदिग्ध नकदी के स्रोत की जांच की जा सके।

post bottom ad