latest-newsजयपुरराजस्थान

मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का शुभारंभ: 65 लाख किसानों के खातों में 653 करोड़ रुपये हस्तांतरित

मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का शुभारंभ: 65 लाख किसानों के खातों में 653 करोड़ रुपये हस्तांतरित

मनीषा शर्मा । मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने टोंक की कृषि उपज मंडी में ‘मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि योजना’ का राज्यस्तरीय शुभारंभ करते हुए प्रदेश के किसानों को बड़ी सौगात दी। इस योजना के तहत प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की 6 हजार रुपये की राशि के साथ ही 2 हजार रुपये अतिरिक्त दिए जाएंगे। आज राज्य सरकार की ओर से पहली किस्त के तौर पर 65 लाख से अधिक किसानों के खातों में 653 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं।

मुख्यमंत्री शर्मा ने कहा कि किसान भाइयों को सम्मान और संबल देने की प्रेरणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिली है। प्रधानमंत्री ने तीसरी बार शपथ लेते ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त जारी की थी। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार किसान कल्याण की दिशा में कई कदम उठा रही है और किसान की समृद्धि से ही विकसित एवं खुशहाल राजस्थान का सपना साकार होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में गेहूं के 2275 रुपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य के ऊपर 125 रुपये का बोनस प्रदान कर 2400 रुपये प्रति क्विंटल पर गेहूं खरीद की गई है। प्रदेश में 10 हजार सौर ऊर्जा संयंत्रों, 41 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में ड्रिप और मिनी स्प्रिंकलर तथा 44 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में स्प्रिंकलर संयंत्रों की स्थापना की गई है। शर्मा ने कहा कि राज्य के 47 हजार किसानों को कृषि कनेक्शन जारी किए गए हैं और किसानों को बिजली के बिलों में 8 हजार करोड़ रुपये से अधिक का अनुदान दिया गया है। किसानों को पर्याप्त बिजली उपलब्ध कराने तथा प्रदेश को बिजली सरप्लस राज्य बनाने के लिए 2.24 लाख करोड़ के एमओयू किए गए हैं। प्रदेश के 80 हजार से अधिक किसानों को 350 करोड़ रुपये का अल्पकालीन फसली ऋण मिला है तथा 21 कस्टम हायरिंग केंद्रों की स्थापना की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाकर खेती-किसानी को मजबूत बनाने का राज्य सरकार का संकल्प है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान-2.0 के तहत आगामी 4 वर्षों में 5 लाख जल संग्रहण ढांचे बनाए जाएंगे तथा 20 हजार फार्म पौंड स्थापित कर वर्षा का जल संग्रहित किया जाएगा।

शर्मा ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि चीनी और गुड़ पर मंडी शुल्क को समाप्त कर दिया गया है। केंद्रीय सहकारी बैंकों के माध्यम से किसानों को 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक का ब्याजमुक्त फसली ऋण उपलब्ध करवाया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में 100 नई पैक्स का गठन किया गया है और पशुपालकों के लिए त्वरित पशु चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने हेतु मोबाइल वेटेनरी सेवा प्रारंभ की गई है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राज सहकार व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के तहत पात्र महिलाओं को 10-10 लाख रुपये की सहायता राशि के चेक सौंपे और कृषि उपज मंडी प्रांगण में पीपल लगाकर वृक्षारोपण किया। कार्यक्रम में विभिन्न गणमान्य व्यक्तियों और बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।

post bottom ad