राजस्थान के डीजीपी ने हरियाणा पुलिस को लिखा पत्र, जांच के लिए सहयोग मांगा

0
59

राजस्थान में सियासी उठापटक जारी है। इस बीच विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़ेकथित ऑडियो मामले में जांच के लिए राजस्थान के डीजीपी भूपेंद्र यादव ने हरियाणा और दिल्ली पुलिस को पत्र लिखकर इस मामले में सहयोग करने के लिए कहा है। पायलट गुट के विधायकगुड़गांव मेंहोने की खबर पर राजस्थान पुलिस की एसओजी आई थी। लेकिन, जिस होटल में विधायकों के रहने की सूचना थी वह वहां नहीं मिले थे।ऐसे में अब डीजीपी ने हरियाणा पुलिस को सहयोग के लिए पत्र लिखा है। हालांकि अभी तक किसी ने इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है। राजस्थान में जारी सियासी संकट के पहले दिन से राजस्थान के बागी कांग्रेस विधायक हरियाणा के गुड़गांव में स्थित आईटीसी रिजॉर्ट में थे। विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़ा ऑडियो वायरल हुआ तो उस मामले में पूछताछ करने के लिए 17 जुलाई की शाम को राजस्थान पुलिस की एसओजी हरियाणा पहुंची थी।मानेसर में स्थित आईटीसी रिजॉर्ट के बाहर भारी संख्या में हरियाणा पुलिस तैनात थी, जिसने करीब 40 मिनट तक एसओजी को रिजॉर्ट के अंदर नहीं जाने दिया। इसके बाद जब एसओजी अंदर गई तो विधायक नहीं मिले। सूत्रों का कहना था कि जब तक दोनों राज्यों की पुलिस आपस में उलझती रही तब तक विधायक पिछले रास्ते से किसी दूसरी जगह चले गए थे।इसके बाद भी एसओजी दिल्ली और गुड़गांव में विधायकों को तलाशती रही लेकिन वे नहीं मिले। आखिरकार एसओजी को वापसराजस्थान लौटना पड़ा। अब डीजीपी ने हरियाणा और दिल्ली पुलिस को सहयोग करने के लिए कहा है। देखना यह होगा किहरियाणा पुलिस कितना सहयोग करती हैं। क्योंकि प्रदेश में भाजपा सरकार है और राजस्थान कांग्रेस व उनके प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला खुले तौर परमनोहर लाल खट्टर सरकार पर विधायकों को संरक्षण देने का आरोप लगा चुके हैं।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

17 जुलाई को जब राजस्थान पुलिस की एसओजी पूछताछ के लिए हरियाणा के मानेसर पहुंची तो हरियाणा पुलिस ने उन्हें करीब 40 मिनट से ज्यादा वक्त तक रोके रखा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here