कोरोना से होने वाली मौतों को घटाना है तो खाने में खीरा, पालक और पत्तागोभी खाएं, दावा- जिन देशों में इन सब्जियों का सेवन अधिक वहां मौतें कम हुईं

0
48

कोरोना संक्रमण के बाद मौत की दर को घटाना है तो खाने में खीरे, पालक और पत्तागोभी की मात्रा को बढ़ाएं। एक ग्राम सब्जी की मात्रा भी मौत को दर को घटा सकती है। यह दावा विश्व स्वास्थ्य संगठन के ग्लोबल एलायंस अंगेस्ट क्रॉनिक रेस्पिरेस्ट्री डिसीज के पूर्व चेयरमैन डॉ. जियन बूस्क्वैट ने अपनी रिसर्च में किया है। शोधकर्ता डॉ. जियन का कहना है कि कोरोना से होने वाली मौत की दर उन देशों में कम है जहां सब्जियां और फर्मेंटेड फूड का सेवन अधिक किया जाता है।शोधकर्ताओं का कहना है कि ब्रेसीकेसी फैमिली की इन सब्जियों में सल्फोराफेन होता है जो शरीर में Nrf2 को एक्टिवेट करता है। यही Nrf2 कोविड-19 की गंभीरता से सुरक्षा देता है।एंटीऑक्सीडेंट मौत की दर को घटा सकता हैसब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट अधिक होने के कारण ये डायबिटीज और हार्ड डिसीज का खतरा कम करती हैं। नई रिसर्च में शोधकर्ता डॉ. बूस्क्वैट ने दावा किया है कि ब्रोकली, पत्तागोभी, टमाटर, पालक और खीरा आदि में एंटीऑक्सीडेंट अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसका अधिक सेवन करने वाले कई देशों में कोरोना संक्रमण के बाद मौत की दर कम रही है।मौत की दर रोकने में डाइट भी एक जरूरी फैक्टरडॉ. बूस्क्वैट और रिसर्च टीम का कहना है कि कोरोना से होने वाली मौत को रोकने में कई फैक्टर अहम रोल अदा करते हैं। खानपान उनमें से एक है। कोरोना की शुरुआत चीन के वुहान में हुई थी लेकिन इसी देश में मौत की दर अलग-अलग जगह काफी भिन्न-भिन्न थी। ब्रोकली, पत्तागोभी और खीरा जैसी सब्जियां इंसुलिन रेसिस्टेंस होती हैं और कई देशों में मौत की दर को घटा हुआ पाया गया।खीरा और पत्तागोभी खाकर मौत का खतरा 13.6% और 15.7% कम कर सकते हैंशोधकर्ताओं की टीम ने दावा किया है कि सिर्फ पत्तागोभी और खीरा खाकर कोविड-19 से होने वाली मौत की दर घटाई जा सकती है। रिसर्च में दावा किया गया है कि डाइट में पत्तागोभी बढ़ाकर मौत का खतरा 13.6 फीसदी और खीरे की मात्रा बढ़ाकर यह खतरा 15.7 फीसदी तक कम किया जा सकता है।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Coronavirus Mortality Rate/Nutrition Updates: Eating Green Vegetables May Reduce Covid-19 Death, Study Claims

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here