राहुल गांधी ने देश-विदेश के 4 नर्सेज से बात की; हेल्थ वर्कर्स ने बार-बार हाथ धोने की सलाह दी, कहा- मेडिकल प्रैक्टिसनर के लिए अच्छी पॉलिसी जरूरी

0
19

कोरोना पर चर्चा की सीरीज में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 4 नर्सेज से बात की। इनमें 2 मेल और 2 फीमेल थे। सभी भारतीय हैं, लेकिन इनमें से 3 ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और ब्रिटेन में काम कर रहे हैं। इनसे चर्चा का वीडियो राहुल ने आज नेशनल डॉक्टर्स डे के मौके परशेयर किया। नर्सेज ने अपने अनुभव बताते हुए सलाह दी कि बार-बार हाथ धोते रहें। फ्रंटलाइन वर्कर को खासतौर से इसका ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि डॉक्टर और नर्सेज लगातार संक्रमित हो रहे हैं।नर्सेज ने कहा कि भारत में मेडिकल प्रैक्टिसनर की सेफ्टी के लिए बेहतर पॉलिसी बनाने से लंबे समय तक फायदा होगा। महामारी का यह समय मुश्किल है, लेकिन इससे लोगों को भावनाएं दिखाने का मौका मिला। इससे काफी कुछ सीखने को भी मिला।राहुल ने 2 महीने में 10 एक्सपर्ट से चर्चा कीकोरोना और इकोनॉमी पर उसके असर को लेकर राहुल देश-विदेश के एक्सपर्ट से चर्चा कर रहे हैं। उन्होंने 30 अप्रैल को आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन से बातचीत के साथ यह सीरीज शुरू की थी। पिछली चर्चा 12 जून को अमेरिका के पूर्व डिप्लोमैट निकोलस बर्न्स से हुई थी।30 अप्रैल: आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन से चर्चा हुई थी। राजन ने कहा था कि गरीबों की मदद के लिए 65 हजार करोड़ रुपए खर्च करने की जरूरत है।5 मई: अर्थशास्त्र के नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से बातचीत की। बनर्जी ने कहा था कि कोरोना के आर्थिक असर को देखते हुए बड़े आर्थिक पैकेज की जरूरत है।27 मई: राहुल ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आशीष झा और स्वीडन के कैरोलिंसका इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर जोहान गिसेक से चर्चा की थी। प्रोफेसर झा ने कहा था कि कोरोना का वैक्सीन अगले साल तक आने की उम्मीद है। प्रोफेसर जोहान का कहना था कि भारत में सॉफ्ट लॉकडाउन होना चाहिए। लॉकडाउन सख्त होगा तो अर्थव्यवस्था जल्दी बर्बाद हो जाएगी।4 जून: बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज से बात हुई थी। बजाज ने कहा था कि देश में लॉकडाउन से संक्रमण तो नहीं रुका बल्कि अर्थव्यवस्था ठहर गई।12 जून: अमेरिका के पूर्व डिप्लोमैट निकोलस बर्न्स से चर्चा हुई। बर्न्स ने कहा कि अगर भविष्य में कोई महामारी आए तो दोनों अमेरिका और भारत मिलकर गरीबों के लिए काफी कुछ कर सकते हैं। कोरोना संकट में भी भारत, अमेरिका और चीन के पास मिलकर काम करने का मौका था।1 जुलाई: देश-विदेश में काम कर रहे 4 भारतीय नर्सेज से चर्चा। इन्होंने कोरोना से बचाव केतरीके बताए और मेडिकल प्रैक्टिसनर की सेफ्टी केलिए बेहतर पॉलिसी की जरूरत बताई।
आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

राहुल ने जिन नर्सेज से बात की वे चारों भारतीय मूल के हैं, लेकिन 3 विदेशों में काम कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here