इस्लामाबाद में पहला मंदिर बन रहा था, इमरान ने 10 करोड़ का बजट मंजूर किया था, धार्मिक संस्था ने फतवा जारी किया

0
98

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में पहलामंदिर बनाए जाने का विरोध शुरू हो गया है। मजहबी शिक्षा देने वाले संस्थान जामिया अशर्फिया ने मंगलवार को कहा- मंदिर निर्माण इस्लाम के खिलाफ है। इस संस्थान ने मंदिर बनाने के खिलाफफतवा भी जारी कर दिया। पिछले हफ्ते ही मंदिर की नींवरखी गई थी। प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसके लिए 10 करोड़ रुपए की मंजूरी भी दी थी।जामिया अशर्फियाकीलाहौर यूनिट के प्रमुख मुफ्ती जियाउद्दीन ने कहा- अल्पसंख्यक समुदायों के धार्मिक स्थलों की मरम्मत पर सरकारी धन खर्च करने की अनुमति है,लेकिन गैर-मुस्लिमों के लिए मंदिर या नए धार्मिक स्थल बनाने की मंजूरी नहीं दी गई है। लोगों के टैक्स के पैसे को अल्पसंख्यकों के लिए मंदिर निर्माण में खर्च करना सरकार के फैसले पर सवाल खड़े करता है।वहीं, अल्पसंख्यक सांसद लाल चंद मल्ही ने कहा-विरोध की परवाह नहीं है,मंदिर निर्माण जारी रहेगा।इस्लामाबाद में हिंदुओं की आबादी करीब 3 हजार है।हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कियाइस बीच, इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने मंदिर निर्माण के खिलाफ एक याचिका पर कैपिटल डेवलपमेंट अथॉरिटी (सीडीए) को नोटिस जारी किया है। याचिकाकर्ता के अनुसार, यह योजना राजधानी के लिए तैयार मास्टर प्लान के तहत नहीं आती है।27 जून को प्रोजेक्ट को मंजूरी मिली थी27 जून को इमरान ने धार्मिक मामलों के मंत्री पीर नूर उलहक कादरी के साथ बैठक के बाद प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी। इस दौरान अल्पसंख्यक नेता लाल चंद मल्ही, शुनीला रूथ, जेम्स थॉमस, डॉ. रमेश वांकवानी और जय प्रकाश उकरानी मौजूद थे।
आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

27 जून को इस्लामाबाद में पहले मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी गई। राजधानी में हिंदुओं की आबादी तीन हजार हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here