चौमू में बड़ी संख्या में पहुंचा टिड्डियों का दल, पेड़ों और खेतों पर जा बैठा; थाली-बर्तन बजाकर भगाया

0
118

जिले के चौमूमें शुक्रवार को बड़ी संख्या में टिड्डी दल ने हमला किया। इस दौरान लोगों ने थाली-बर्तन बजाकर टिड्डियों को भगाने की कोशिश की। जिले के अनोपपुरा, झुंड, रोटवाड़ा और बगरू के आसपास टिड्डियों के दल ने हमला किया। इससे पहले गुरुवार को जिले के फुलेरा, बगरू, दूदू, बिचून, फागी, रतनपुरा, किशनगढ़-रेनवाल, हिरनोद और जोबनेर में टिड्डियों का दल देखा गया था।इस दौरान बड़ी संख्या में टिड्डी दल खेतों और पेड़ों पर जा बैठा। जिसने कुछ ही मिनटों में फसलचट कर दी। किसान लगातार थाली-बर्तन बजाकर फसल बचाने की कोशिश करते रहे। एक तरफ बरसात होने के बाद किसानों में फसल बुआई को लेकर खुशी थी। वहींदूसरी तरफ टिड्डियों के हमले से किसानअब चिंता में हैं।अच्छी बारिश में की गई बुआई पर भी भी टिड्डियों का हमला।अब तक 30 टिड्डी दल गुजर चुकेजिले में अब तक 30 टिड्डी दल गुजर चुके है। गुरुवार को चार किलोमीटर लंबा टिड्डी दल फसलों को चट करते हुए निकल गया। इस दौरान किसान पींपे, बर्तन बजाकर टिड्डियोंको भगाते रहे। कृषि विभाग के उप निदेशक बीआर कड़वा का कहना है कि डब्लूएचओके अनुसार अभी दो से तीन गुणा और दल आ सकते है। कड़वा ने जानकारी दी कि टिडडी दल पर रात के समय कृषि विभाग की टीम द्वारा कीटनाशक स्प्रे कर मारा जा रहा है।स्प्रे करवाने की मांगकिसानों ने कलेक्टर व विधायक के नाम ज्ञापन प्रेषित कर टिड्डियों को भगाने के लिए स्प्रे करवाने की मांग की है। किसानों ने चेताया कि अगर टिड्डियों की उपाय नहीं की गई तो किसानों की फसल चौपट हो जाएगी।टिड्डियों का दल बड़ी संख्या में पेड़ों पर बैठा।एक दिन पहले यहां-यहां दिख चुका टिड्डी दल फुलेरा क्षेत्र में गुरुवार को टिड्डी का झुंड आसमान में देखने से आमजन में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया। लोगों ने थाली-कटोरी, पीपे बजाने साथ ही वाले पटाखे भी छोड़े। बगरू मेंगुरुवार दोपहर बाद चली तेज हवाओं के साथ निकटवर्ती ग्राम पंचायत सवाई जयसिंहपुरा में बड़ी संख्या में टिड्डी दल आने से किसान चिंतित है। ग्रामीण भवंरलाल, रतनलाल, मदन आदि ने बताया कि टिड्डी दल को भगाने के लिए किसानों ने ढोल, पीपा थाली आदि बजाकर भगाने का प्रयास किया मगर लगभग 1 घंटे तक यहां तांडव मचाने के बाद टिड्डी दल हवा के रुख के साथ आगे बढ़ा। सांभरलेक और दूदू मेंअब तक टिड्डियों के हमले से बचे दूदू कस्बे में भी गुरुवार को टिड्डियों के दल ने हमला कर दिया। खेतों में झुंड के झुंड फसलों एवं पेड़ों पर बैठ गए। किसानों ने थालिया, ढोल, पटाखे जलाकर उड़ाने का प्रयास करते रहे। बिंजोलाव, उदयपुरिया सहित कई गांवों में भी टिड्डियों ने हमला किया। बिचून केमोखमपुरा, गाड़ोता, नासनोदा, बासड़ा, धोलियो की ढाणी, मीणा की ढाणी में गुरुवार दोपहर 3 बजे से टिड्डी दल ने फसलों पर हमला बोल दिया। किसानों ने बताया कि टिड्डियों ने सब्जियों की फसल, बाजरे की फसल को नुकसान पहुंचाया। फागी और रतनपुराक्षेत्र के परवण, किशोरपुरा, गोकुलपुरा, विमलपुरा,समेलिया, कवरपुरा, पांवसु, धुवालियां में गुरुवार सुबह से ही आसमान में टिड्डी दल ने हमला किया। किशनगढ़-रेनवाल मेंमुंडली-रणजीतपुरा होकर एक और टिड्डी दल गुरुवार को पेड़ पौधों की पत्तियों का चट करता हुआ गुजर गया। आसलपुर मेंपिछले 8 दिन में क्षेत्र के गुढ़ा बैरसल बोराज, बोबास, आईदान का बास, ढाणी बोराज, कालख सहित आसपास के गांव में लाखों की संख्या में आ रहे टिडि्डयों के दल किसानों के लिए मुसीबत बनते जा रहे हैं। गुरुवार को हिरनोदा, रोजडी, ढींढा, झरना, भगवतपुरा, देवला केसरीसिंहपुरा, सुरसिंहपुरा, भंदे बालाजी सहित क्षेत्र में अचानक टिड्डी दल का हमला होने से किसानों की चिंता बढ़ गई। जोबनेरमेंपिछले कुछ दिनों में टिड्डी दल ने किसानों व कृषि विभाग की नींद उड़ा रखी है। गुरुवार को एक बार फिर टिड्डी दल कस्बे के आसमान पर छाया रहा। टिड्डी दल का लंबे-चौड़े झुंड से आसमान पर गुजरने पर उड़ रहे परिंदों की भी शामत आ गई।खेत में हुए नुकसान का जायजा लेते किसान।चौमूं के आसमान में बड़ी संख्या में टिड्डी दल नजर आया।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

खेतों और पेड़ों पर जाकर बैठा टिड्डियों का दल।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here