कोराेना संक्रमित पिदावली के पूर्व सरपंच की जयपुर में मौत, पिपहेरा का रोडवेज बस कंडक्टर भी संक्रमित

0
13

जिले में कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा जहां लगातार बढ़ रहा है। वहीं अब ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी जल्द ही बढ़नी शुरू होगी। जिले में मंगलवार को 53 कोरोना पाॅजिटिव मरीज सामने आए हैं। वहीं 15 मरीज ठीक होकर घर पहुंचे हैं।वहीं बाड़ी पंचायत समिति की ग्राम पंचायत पिदावली के 72 वर्षीय पूर्व सरपंच गिरंदसिंह परिहार की जयपुर में कोरोना से मौत हो गई। सीएमएचओ डाॅ. गोपाल गोयल ने बताया कि पुराना शहर में 6, मदीना काॅलोनी 2, हरदेव नगर 1, जरौली 1, भवा साहब का बाड़ा 1, जीटी रोड 1, गिर्राज काॅलोनी 1, सीताराम काॅलोनी 1 और सैंपऊ और बसेड़ी का 1-1 मरीज ठीक होकर घर पहुंचे हैं।पूर्व सरपंच परिहार की सुबह 5 बजे निधन की सूचना उनके परिजनों, रिश्तेदार और मिलने वालों को मिली। इसके बाद परिजन जयपुर के लिए रवाना हो गए। पूर्व सरपंच के पुत्र अमरीश ने बताया कि 12 जून को निमोनिया की शिकायत होने पर पिता को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था, उन्हें बीपी की समस्या भी थी।इस दौरान 15 जून को उनका ब्लड सैंपल जांच के लिए भिजवा दिया। 21 जून को पॉजिटिव निकलने और तबीयत में सुधार नहीं होने पर उन्हें जयपुर रैफर कर दिया। जहां 2 दिन वेंटिलेटर पर रहने के बाद 23 जून को अलसुबह करीब 5 बजे पूर्व सरपंच परिहार ने दम तोड़ दिया।पूर्व सरपंच की अर्थी को नहीं मिला कंधापूर्व सरपंच के पुत्र अमरीश परिहार ने बताया कि अस्पताल प्रशासन द्वारा पिता गिरंद सिंह परिहार के शव के लिए अर्थी और चिता तैयार की गई थी। कोरोना के भय के चलते परिजन कंधा तक नहीं दे सके। अस्पताल प्रशासन की टीम द्वारा पीपीई किट में पूर्व सरपंच के शव को चिता पर लिटाया गया। परिजनों को अंतिम दर्शन कराने के साथ मुखाग्नि दिलवाकर अग्निशमन की गाड़ी में भरे सैनिटाइजर से सभी को सैनेटाइज कराकर वापस कर दिया।बाड़ी : एसडीएम ने बाजार में 8 दुकानें सीज कीकोरोना फैलने के बाद कर्फ्यू लगाने के बावजूद बाजार में कुछ दुकानदारों द्वारा दुकान खोलने पर उपखंड अधिकारी ने मंगलवार को 8 दुकानों को सीज कराया। एसडीएम बृजेश मंगल ने बताया कि भारद्वाज मार्केट में मनोज मशीनरी स्टोर और डिघर्रा खाद बीज की दुकान को सीज किया है। वहीं अम्बेडकर पार्क के पास स्थित मिस्त्री मार्किट में महालक्ष्मी डीजल, चौधरी मिस्त्री और शिवम मिस्त्री की दुकान सीज की गई है। साथ में सर्राफा बाजार में सोने-चांदी के आभूषणों को चमकाने वाले कारीगर सलीम की दुकान को सीज है।यह ठीक नहीं : होम आइसोलेशन में भी घूम रहे हैं मरीजों के परिजनहोम आइसोलेशन प्रक्रिया से संक्रमण के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। क्योंकि संक्रमित मरीज घर में आइसोलेशन के दौरान उतनी जागरूकता एवं अनुशासन के साथ नहीं रहता, जितना उसे चिकित्सकों की निगरानी में अलग रखा जा सकता है।जिले में ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं कि संक्रमित मरीज के परिजन भी संक्रमित हो रहे हैं अब तो हालात यहां तक हो गए हैं कि संक्रमित मरीज व उनके परिजन मरीज द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली वस्तुएं जैसे हाथ के दस्ताने मास्क एवं अन्य वस्तुओं को खुले में सड़क पर फेंक देते हैं। जिससे निरंतर संक्रमण फैल रहा है।सैनिटाइजेशन प्रशासन की लापरवाही का आलम यह है कि होम आइसोलेशन में रखे गए संक्रमित मरीजों के घर अथवा गली में एक भी बार नसैनिटाइजेशन की प्रक्रिया नहीं अपनाई गई है।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here