वृद्धावस्था, विशेष योग्यजन और विधवा पेंशन अब बैंक की बजाए पोस्ट ऑफिस से मिलेगी, खाता खुलवाना हाेगा

0
22

वृद्धावस्था, विशेष योग्यजन और विधवा पेंशन का वितरण अब डाक विभाग करेगा। इससे पहले से इनकी पेंशन बैंक खाते में जाती थी। इस संबंध में डाक विभाग को तैयारियों के संबंध में निर्देश मिल चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि कोटा मंडल में 5 लाख 16 हजार सामाजिक सुरक्षा के योग्यताधारियों की सूची उन्हें मिल चुकी है। इनमें कोटा जिले के 1 लाख 25 हजार सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत खाते हैं। अधिकारियों का कहना है कि पोस्ट ऑफिस के माध्यम से पात्र व्यक्ति के घर जाकर पेंशन राशि का वितरण किया जाएगा। इसकी प्रोसेस बायोमेट्रिक मशीन से होगी। थंब इंप्रेशन के बाद अकाउंट ओपन होने पर यह राशि पोस्टमैन देंगे।खाता खुलवाने के लिए यह प्रक्रिया होगी डाक विभाग की ओर से वर्ष 2013 तक पोस्ट ऑफिस के माध्यम से पेंशन राशि का भुगतान किया जाता रहा है। लेकिन, बाद में पेंशन राशि में देरी अनियमितताएं और अन्य शिकायतें मिलने के बाद इसका वितरण बंद कर दिया गया था। इसके बाद बैंकों के माध्यम से पेंशन राशि का वितरण किया जा रहा है।अब करीब 7 साल बाद फिर से पेंशन राशि का भुगतान डाक विभाग के माध्यम से करवाने के लिए विभाग को निर्देश मिल चुके हैं।इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक के नाम से खुलेगा खाता डाक विभाग की ओर से संबंधित पेंशनर्स का इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक के नाम से खाता खुलेगा। इसमें ऑनलाइन पेपर लेस प्रोसेस होगी। यह खाते की औपचारिकता होने के बाद संबंधित पेंशनर को प्रक्रिया पूरी होने के बाद डाक विभाग के माध्यम से खाता शुरू हो सकेगा।पेंशनधारियाें काे ये व्यावहारिक दिक्कतें आएंगीवर्तमान में सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत पेंशनर्स के खाते बैंक के माध्यम से खुले हैं। इसमें उन्हें अपने बैंक में पेंशन राशि का एंट्री के बाद पूरा पता चल जाता है कि कितना उसमें बैलेंस है। लेकिन, डाक विभाग की ओर से इस खाते में बैलेंस जानने के लिए पेंशनर के पास एंड्राइड मोबाइल होना जरूरी है।इसके बगैर अपने खाते की बैलेंस की जानकारी पेंशनर को नहीं मिल सकेगी। क्योंकि, पेंशनर के बाद सामान्य मोबाइल होता है । इसमें उन्हें सिर्फ मैसेज ही मिल पाता है । बैलेंस की जानकारी नहीं। ऐसे में पेंशनर को फिर से डाकघरों में बार बार चक्कर काटने का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।^सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत वृद्धावस्था, विशेष योग्यजन एवं विधवा के पेंशन का वितरण डाक विभाग द्वारा के जाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है इसके लिए कोटा डिवीजन में 5 लाख 16 हजार खातों की खोलने की प्रोसेस होगी। इसमें कोटा जिले के 1 लाख 25 हजार खाते हैं। डाकघर के पोस्टमैन पेंशनर को घर-घर जाकर पेंशन राशि का बायोमेट्रिक मशीन के माध्यम से वितरण करेंगे। इसमें सामान्य प्रक्रिया के तहत पेपर लेस खाता खोला जाएगा। -सुनील राठौर, एएसपी डाक विभाग
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

प्रतीकात्मक फोटो।

वृद्धावस्था, विशेष योग्यजन और विधवा पेंशन का वितरण अब डाक विभाग करेगा। इससे पहले से इनकी पेंशन बैंक खाते में जाती थी। इस संबंध में डाक विभाग को तैयारियों के संबंध में निर्देश मिल चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि कोटा मंडल में 5 लाख 16 हजार सामाजिक सुरक्षा के योग्यताधारियों की सूची उन्हें मिल चुकी है।

इनमें कोटा जिले के 1 लाख 25 हजार सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत खाते हैं। अधिकारियों का कहना है कि पोस्ट ऑफिस के माध्यम से पात्र व्यक्ति के घर जाकर पेंशन राशि का वितरण किया जाएगा। इसकी प्रोसेस बायोमेट्रिक मशीन से होगी। थंब इंप्रेशन के बाद अकाउंट ओपन होने पर यह राशि पोस्टमैन देंगे।

खाता खुलवाने के लिए यह प्रक्रिया होगी
डाक विभाग की ओर से वर्ष 2013 तक पोस्ट ऑफिस के माध्यम से पेंशन राशि का भुगतान किया जाता रहा है। लेकिन, बाद में पेंशन राशि में देरी अनियमितताएं और अन्य शिकायतें मिलने के बाद इसका वितरण बंद कर दिया गया था। इसके बाद बैंकों के माध्यम से पेंशन राशि का वितरण किया जा रहा है।

अब करीब 7 साल बाद फिर से पेंशन राशि का भुगतान डाक विभाग के माध्यम से करवाने के लिए विभाग को निर्देश मिल चुके हैं।

इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक के नाम से खुलेगा खाता
डाक विभाग की ओर से संबंधित पेंशनर्स का इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक के नाम से खाता खुलेगा। इसमें ऑनलाइन पेपर लेस प्रोसेस होगी। यह खाते की औपचारिकता होने के बाद संबंधित पेंशनर को प्रक्रिया पूरी होने के बाद डाक विभाग के माध्यम से खाता शुरू हो सकेगा।

पेंशनधारियाें काे ये व्यावहारिक दिक्कतें आएंगी
वर्तमान में सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत पेंशनर्स के खाते बैंक के माध्यम से खुले हैं। इसमें उन्हें अपने बैंक में पेंशन राशि का एंट्री के बाद पूरा पता चल जाता है कि कितना उसमें बैलेंस है। लेकिन, डाक विभाग की ओर से इस खाते में बैलेंस जानने के लिए पेंशनर के पास एंड्राइड मोबाइल होना जरूरी है।

इसके बगैर अपने खाते की बैलेंस की जानकारी पेंशनर को नहीं मिल सकेगी। क्योंकि, पेंशनर के बाद सामान्य मोबाइल होता है । इसमें उन्हें सिर्फ मैसेज ही मिल पाता है । बैलेंस की जानकारी नहीं। ऐसे में पेंशनर को फिर से डाकघरों में बार बार चक्कर काटने का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
^सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत वृद्धावस्था, विशेष योग्यजन एवं विधवा के पेंशन का वितरण डाक विभाग द्वारा के जाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है इसके लिए कोटा डिवीजन में 5 लाख 16 हजार खातों की खोलने की प्रोसेस होगी। इसमें कोटा जिले के 1 लाख 25 हजार खाते हैं। डाकघर के पोस्टमैन पेंशनर को घर-घर जाकर पेंशन राशि का बायोमेट्रिक मशीन के माध्यम से वितरण करेंगे। इसमें सामान्य प्रक्रिया के तहत पेपर लेस खाता खोला जाएगा। -सुनील राठौर, एएसपी डाक विभाग

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


प्रतीकात्मक फोटो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here