बजरी माफिया के इशारे पर पूर्व विधायक भीमराज पर जानलेवा हमला, महिलाओं ने लात व घूसों से पीटा, फावड़े से नाक तोड़ी

0
19

पाली जिले के रोहट थाना क्षेत्र के कलाली गांव में चल रहे मनरेगा कार्य के निरीक्षण के दौरान पूर्व विधायक भीमराज भाटी पर बजरी माफिया ने जानलेवा हमला कर दिया। पूर्व विधायक जब काम का जायजा लेने गए तब पीछे से कुछ महिलाओं ने उन्हें धक्का देकर गिरा दिया और लात घूसों से मारपीट की। इसके बाद फावड़े से हमला किया जिसमें उनकी नाक का एक हिस्सा कट गया, जिस पर सात टांके लगाए गए हैं।इस हमले में घायल पूर्व विधायक को ग्रामीणों की मदद से रोहट के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। यहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें पाली के बांगड़ अस्पताल भेज दिया गया, यहां इनका आईसीयू वार्ड में उपचार चल रहा है। पुलिस अधिकारी कलाली गांव पहुंचे और हमला करने के आरोप में मनरेगा पर काम करने वाली आठ महिला श्रमिकों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार किया, जिन्हें बाद में जमानत पर रिहा किया गया।पूर्व विधायक के पर्चा बयान के अनुसार कलाली गांव के पूर्व सरपंच व बजरी माफिया सरदाराराम भाट समेत अन्य लोगों ने अपनी रिश्तेदार महिला श्रमिकों से उन पर जानलेवा हमला कराया। रोहट पुलिस ने आईपीसी 307 व 120 बी में मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की है।दूसरी तरफ एक महिला श्रमिक ने बुधवार शाम को पुलिस में रिपोर्ट देकर पूर्व विधायक पर मारपीट व लज्जाभंग के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया है। उधर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने पूर्व विधायक भीमराज भाटी की कुशलक्षेम पूछी और एसपी राहुल कोटोकी को मामले में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए।पुलिस के अनुसार पूर्व विधायक भीमराज भाटी ने पर्चा बयान दिया कि बुधवार सुबह करीब आठ बजे रोहट के निकट कलाली गांव में गजेसागर चल रहे मनरेगा कार्य का जायजा लेने गए थे। इनके साथ जिला कांग्रेस के महासचिव मदनसिंह जागरवाल व कांग्रेस नेता गोरधन प्रजापत भी थे।इस दौरान कलाली गांव के पूर्व सरपंच बजरी माफिया सरदाराराम भाट के इशारे पर कुछ लोगों ने महिला श्रमिकों के साथ मिलकर उन पर जानलेवा हमला कर दिया। मारपीट के दौरान महिला श्रमिकों ने पूर्व विधायक को नीचे गिरा दिया और एक महिला ने फावड़े से उन पर हमला किया, जिससे उनके मुंह व नाक पर गहरी चोट आई।ऐसे समझें पूरा मामला : मनरेगा कार्यों का जायजा लेने पहुंचे थे, अचानक किया हमलासुबह बजे पीछे सेे कुछ लोगों ने भीमराज भाटी को धक्का देकर नीचे गिराया।सुबह बजे महिलाओं ने फावड़े से नाक पर प्रहार किए। लात घूसे मारे।सुबह बजे ग्रामीणों और कांग्रेस नेताओं ने छुड़ाकर रोहट अस्पताल पहुंचाया।बजरी माफिया को सामने लाया तो हमला करवायामैं कोरोना काल में लगातार इलाके में लोगों की मदद के लिए जा रहा हूं। आज कलाली गांव में मनरेगा श्रमिकों के पास पहुंचा था। श्रमिकों से बात कर रहा था। इस बीच कुछ महिलाओं ने षड्यंत्रपूर्वक मेरे साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। महिलाओं ने नीचे गिराकर मारपीट की। बाद में एक महिला ने फावड़े से चेहरे पर वार कर दिया। मेरी नाक पर लगी। इस हमले में बजरी माफिया सरदारराम भाट व अन्य लोगों की साजिश है। मैं इनके गुनाहों को सामने लाया था। -भीमराज भाटी, पूर्व विधायक पालीभाटी ने बजरी माफिया पर क्यों लगाए आरोपकलाली गांव में सरदारराम भाट सरपंच भी रह चुका है। बजरी खनन के मामले में गांव के कुछ लोगों ने उसके खिलाफ माेर्चा खोल दिया था। दोनों पक्षों में मारपीट होने पर गांव में काफी तनाव बढ़ गया था। यहां अस्थायी चौकी भी खोलनी पड़ी थी। इस बीच, पूर्व विधायक भीमराज भाटी ने बजरी माफिया सरदाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने में दूसरे पक्ष की पैरवी की थी।इसमें रोहट पुलिस पर भी बजरी माफिया को संरक्षण देने के आरोप लगे थे। इससे पहले भी सरदारराम के खिलाफ गांव के ही लोगों ने मुकदमे दर्ज करवाए थे। अब पूर्व विधायक भाटी खुद पर हुए हमले को इसी से जोड़कर देख रहे हैं सीधा उस पर आरोप लगा रहे हैं।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

महिला श्रमिकों के हमले में घायल पूर्व विधायक।

पाली जिले के रोहट थाना क्षेत्र के कलाली गांव में चल रहे मनरेगा कार्य के निरीक्षण के दौरान पूर्व विधायक भीमराज भाटी पर बजरी माफिया ने जानलेवा हमला कर दिया। पूर्व विधायक जब काम का जायजा लेने गए तब पीछे से कुछ महिलाओं ने उन्हें धक्का देकर गिरा दिया और लात घूसों से मारपीट की। इसके बाद फावड़े से हमला किया जिसमें उनकी नाक का एक हिस्सा कट गया, जिस पर सात टांके लगाए गए हैं।

इस हमले में घायल पूर्व विधायक को ग्रामीणों की मदद से रोहट के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। यहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें पाली के बांगड़ अस्पताल भेज दिया गया, यहां इनका आईसीयू वार्ड में उपचार चल रहा है। पुलिस अधिकारी कलाली गांव पहुंचे और हमला करने के आरोप में मनरेगा पर काम करने वाली आठ महिला श्रमिकों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार किया, जिन्हें बाद में जमानत पर रिहा किया गया।

पूर्व विधायक के पर्चा बयान के अनुसार कलाली गांव के पूर्व सरपंच व बजरी माफिया सरदाराराम भाट समेत अन्य लोगों ने अपनी रिश्तेदार महिला श्रमिकों से उन पर जानलेवा हमला कराया। रोहट पुलिस ने आईपीसी 307 व 120 बी में मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की है।

दूसरी तरफ एक महिला श्रमिक ने बुधवार शाम को पुलिस में रिपोर्ट देकर पूर्व विधायक पर मारपीट व लज्जाभंग के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया है। उधर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने पूर्व विधायक भीमराज भाटी की कुशलक्षेम पूछी और एसपी राहुल कोटोकी को मामले में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए।

पुलिस के अनुसार पूर्व विधायक भीमराज भाटी ने पर्चा बयान दिया कि बुधवार सुबह करीब आठ बजे रोहट के निकट कलाली गांव में गजेसागर चल रहे मनरेगा कार्य का जायजा लेने गए थे। इनके साथ जिला कांग्रेस के महासचिव मदनसिंह जागरवाल व कांग्रेस नेता गोरधन प्रजापत भी थे।

इस दौरान कलाली गांव के पूर्व सरपंच बजरी माफिया सरदाराराम भाट के इशारे पर कुछ लोगों ने महिला श्रमिकों के साथ मिलकर उन पर जानलेवा हमला कर दिया। मारपीट के दौरान महिला श्रमिकों ने पूर्व विधायक को नीचे गिरा दिया और एक महिला ने फावड़े से उन पर हमला किया, जिससे उनके मुंह व नाक पर गहरी चोट आई।

ऐसे समझें पूरा मामला : मनरेगा कार्यों का जायजा लेने पहुंचे थे, अचानक किया हमला
सुबह बजे पीछे सेे कुछ लोगों ने भीमराज भाटी को धक्का देकर नीचे गिराया।
सुबह बजे महिलाओं ने फावड़े से नाक पर प्रहार किए। लात घूसे मारे।
सुबह बजे ग्रामीणों और कांग्रेस नेताओं ने छुड़ाकर रोहट अस्पताल पहुंचाया।

बजरी माफिया को सामने लाया तो हमला करवाया
मैं कोरोना काल में लगातार इलाके में लोगों की मदद के लिए जा रहा हूं। आज कलाली गांव में मनरेगा श्रमिकों के पास पहुंचा था। श्रमिकों से बात कर रहा था। इस बीच कुछ महिलाओं ने षड्यंत्रपूर्वक मेरे साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। महिलाओं ने नीचे गिराकर मारपीट की। बाद में एक महिला ने फावड़े से चेहरे पर वार कर दिया। मेरी नाक पर लगी। इस हमले में बजरी माफिया सरदारराम भाट व अन्य लोगों की साजिश है। मैं इनके गुनाहों को सामने लाया था। -भीमराज भाटी, पूर्व विधायक पाली

भाटी ने बजरी माफिया पर क्यों लगाए आरोप
कलाली गांव में सरदारराम भाट सरपंच भी रह चुका है। बजरी खनन के मामले में गांव के कुछ लोगों ने उसके खिलाफ माेर्चा खोल दिया था। दोनों पक्षों में मारपीट होने पर गांव में काफी तनाव बढ़ गया था। यहां अस्थायी चौकी भी खोलनी पड़ी थी। इस बीच, पूर्व विधायक भीमराज भाटी ने बजरी माफिया सरदाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने में दूसरे पक्ष की पैरवी की थी।

इसमें रोहट पुलिस पर भी बजरी माफिया को संरक्षण देने के आरोप लगे थे। इससे पहले भी सरदारराम के खिलाफ गांव के ही लोगों ने मुकदमे दर्ज करवाए थे। अब पूर्व विधायक भाटी खुद पर हुए हमले को इसी से जोड़कर देख रहे हैं सीधा उस पर आरोप लगा रहे हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


महिला श्रमिकों के हमले में घायल पूर्व विधायक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here